Whatsapp Status in One Line in Hindi

0
439

सहमी हुई है झोपड़ी , पानी के ख़ौफ़ से… महलों की आरज़ू है की, बरसात तेज़ हो।

संभाल के रखना अपनी पीठ को यारो शाबाशी और खंजर दोनो वहीं पर मिलते है।

हमसे ना पूछो कि क्यों बदल गए हैं हम… धीमी आँच पर पक-पक कर… जल गए हैं हम।

जुबां तीखी हो तो खंजर से गहरा जख्म देती है, और मीठी हो तो वैसे ही कत्ल कर देती है।

तेरे पास कोई यकीन का इक्का हो तो बताना मेरे हिस्से के सभी पत्ते तो जोकर निकले।

रूबरू मिलने का मौका हमेशा नहीं मिलता, इसलिए,शब्दों से छू लेता हूँ अपनो को।

घाटे और मुनाफे का बाज़ार नहीं… इश्क़ एक इबादत है, कारोबार नहीं

जैसे जैसे उम्र गुजरती है एहसास होने लगता है कि माँ बाप हर चीज़ के बारे में सही कहते थे।

बचपन मे सब एक ही सवाल पूछते थे… बड़े होकर क्या बनना है ? जवाब अब मिला मुझे फिर से बच्चा बनना है।

अपने देश में राय देने वालों की कोई कमी नहीं है इस पर आपकी क्या राय है।

सकून की एक रात भी नहीं ज़िन्दगी में, ख्वाइशों को सुलाओ… तो यादें जाग जाती हैं।

इस जवानी से तो बचपन अच्छा था जब कुछ बुरा लगता था वही रो देते थे , अब तो रोने के लिए भी जगह ढूँढनी पड़ती है।

बचपन मे सब एक ही सवाल पूछते थे… बड़े होकर क्या बनना है ? जवाब अब मिला मुझे फिर से बच्चा बनना है।

सुबह की ख्वाइशें शाम तक टाली है, इस तरह हमने ज़िन्दगी सम्भाली है।

कुछ रिश्ते मुनाफ़ा नहीं देते पर ज़िन्दगी को अमीर बना देते हैं।

5 (100%) 1 vote